49ers-schedule.com
Examining any enthusiasm about staff located at Coca-Cola Amatil Composition
49ers-schedule.com ×

What is an essay question

Bal shram in hindi essay

Child Labour essay in Hindi बाल मजदूरी पर निबंधबाल मजदूरी का अर्थ है बच्चों से लिया जाने वाला काम जो के किसी भी क्षेत्र में उनके मालिकों दवारा करवाया जाता है। बाल iroquois dictionary essay समाज की प्रमुख बुराईयों में से एक है। बाल श्रम एक गंभीर समस्या बनता जा रहा है गरीब बच्चों का भविष्य अंधकार में जा रहा है। पूरे संसार में गरीब बच्चों से काम लिया जा scott peterson verdict essay है तथा उन्हें तिष्कार का सामना करना पड़ रहा है। माता -पिता अनपढ़ और गरीब होने के कारण उन्हें शिक्षा नहीं दे पाते बच्चे देश का भविष्य बनने की वजाय देश की कमज़ोरी का कारण बन रहे हैं। बचपन में उन्हें शिक्षा से वंचित कर दिया जाता है और उन्हें छोटी उम्र में ही काम में लगा दिया जाता है। आज पूरे समाज में गैर कानूनी तरीके से बच्चों के अधिकारों का हनन किया जा रहा है।सरकार द्वारा बाल मजदूरी (Child Labour) को खत्म करने के लिए बहुत सारे जागरूकता अभियान चलाए जा रहे हैं परन्तु इसके बावजूद भी गरीब घरों के ज्यादातर बच्चे बाल मजदूरी करने के लिए मजबूर हो जाते हैं। इसीलिए बाल श्रम से बच्चों को बचाने की जिम्मेबारी देश के हर नागरिक की है यह एक समाजिक बिमारी है जो पूरे formal letter articles essay को खोकला कर रही है और अब इसे जड़ से उखाड़ने की जरूरत आन पड़ी है पूरे समाज को।गरीब परिवार के बच्चे अपने बच्चों की शिक्षा का खर्च नहीं उठा पाते हैं वो अपने जीवन यापन के लिए पैसा भी नहीं कमा पाते और बच्चों की शिक्षा का खर्च कहां से उठाएंगे इसीलिए ज्यादातर माता -पिता अपने बच्चों को शिक्षा देने की सिवाए उन्हें बाल मजदूरी पर लगा देते हैं। वे ज्यादातर दुकानों, होटलों एवं निर्माण क्षेत्रों में काम करते हैं।परन्तु पिछले कुछ वर्षों से सरकार द्वारा गरीब बच्चों की शिक्षा bal shram in hindi essay लिए कड़े कदम उठाए जा रहे हैं ता जो कोई भी बच्चा बाल मजदूरी ना कर सके गरीब बच्चों को मुफ्त में शिक्षा दी जा रही है उनके माता -पिता को प्रेरित किया bal shram in hindi essay रहा है।बाल मजदूरी (Child Labour) को जड़ से खत्म करने के लिए सबसे आवश्यक है गरीबी को खत्म करना और बच्चों के लिए दो वक्त का खाना उपलब्ध bal shram in hindi essay इसीलिए bal shram in hindi essay गंभीर समस्या के लिए सरकार को ही नहीं बल्कि देश के हर नागरिक को इसके लिए आगे आना होगा यह हमारे समाज के लिए बहुत पीड़ादायक समस्या है इसे जड़ से खत्म करना बेहद लाजमी है।__________________________________________2 .  Essay on Child Labour in Hindi 600 words  बाल मजदूरी एक अभिशाप 8211;बाल मजदूरी आज के समय का एक अंतराष्ट्रीय मुद्दा बन गया है यह गंभीर समस्या how many words is 1000 characters essay -धीरे बच्चों का जीवन नष्ट कर रही है और जिससे देश का भविष्य अन्धकार में सिमटता हुआ दिखाई दे रहा है। यह गंभीर समस्या सिर्फ भारत में ही नहीं है बल्कि इसने अपनी चपेट में दुनिया के विकासशील देशों को भी ले रखा है।भारत में बाल मजदूरी की बात की जाए तो यहां करोड़ों ऐसे बच्चे हैं जो बाल मजदूरी का शिकार है बाल्यावस्था में ही उन्हें शोषण का शिकार होना पड़ता है दिनभर काम कराने के बाद भी उन्हें दो वक्त खाना नसीब नहीं होता। जो उम्र उनके पढ़ने लिखने की sat essay writing rules paragraphs है उस उम्र में उन्हें इस शोषण के दलदल में धकेल दिया जाता है।भारत के कानून के मुताबिक जिस bal shram in hindi essay की उम्र 14 वर्ष से कम है उस बच्चे से काम लेना कानून के खिलाफ समझा जाएगा वह बच्चे रेस्टोरेंटफैक्ट्री जा फिर किसी अन्य जगह पर काम नहीं कर सकते है।भारत में तो बाल मजदूरी तेज़ी से कदम पसार रही है जहाँ बालक घरेलू काम से लेकर फक्ट्रियों में काम करते हुए देखे जा सकते हैं इन्हें ऐसे कारखानों में भी मजदूरी करते हुए देखा जा सकता जहाँ पर जान जाने का खतरा बना रहता है यहां इनके पढ़ने -लिखने और खेलने की उम्र होती है वहां जे बाल मजदूरी करके अपने परिवार के साथ पेट पालने की मजबूर दिखाई देते हैं दो वक्त की रोटी का इंतजाम न होने के how xerxes dealt with the revolts essay माता -पिता भी उन्हें छोटी उम्र में काम पर लगा देते हैं।बाल मजदूरी के कारण 8211; जहाँ पर आज हमें ये समझने की सख्त जरूर है के बाल मजदूरी के पीछे का कारण क्या है ये दिनभर दिन क्यों अपना पैर पसार रही है copenhagen malmo essay आपको बता दें के इसकी kissy suzuki essay बड़ी वजय है गरीबी जिससे गरीब घर के माता- पिता अपने बच्चों का दो वक्त का पेट न भरने की वजय से उनसे भी काम करवाने के लिए मजबूर हो जाते हैं।किसी भी फैक्ट्री में मजदूर को ज्यादा पैसे देने की अपेक्षा छोटे बच्चों को काम पर रख लिया जाता है जिससे उन्हें कम मजदूरी देनी पडती है।तीसरी वजय बढती हुई बेरोजगारी पढ़े लिखे लोगों को नौकरी के लिए भटकते हुए देख उन्हें लगता है के वह अपने बच्चों को स्कूल की वजाय किसी काम पर ही लगा दें ताकि वह चार पैसे तो कमाकर लाएंगे।बच्चों के माता पिता का अशिक्षित होना जिससे वह शिक्षा के महत्व को नहीं समझ पाते और उन्हें शिक्षा से बेहतर अपने बच्चों को किसी काम पर लगाना ज्यादा बेहतर लगता है .

Continue reading
371 words, 9 pages